• >X

    क्या है इस मंदिर के मकड़ी कुंड का रहस्य कालनेमि

    बिजेथुआ महावीरन ही वह पौराणिक स्थल है, जिसका संबंध कालिनेमि, हनुमानजी व मकड़ी से है। बताया जाता है कि यहां मकड़ी कुंड सरोवर, हनुमानजी का भव्य मंदिर तथा उसमें दक्षिणाभिमुख प्रतिमा पुराने जमाने से स्थित है।
  • <>X

    क्या है इस मंदिर के मकड़ी कुंड का रहस्य कालनेमि

    उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर के कादीपुर स्थित बिजेथुआ महावीरन वह स्थान है जहां कालिनेमि का वध किया गया था।
  • <>X

    क्या है इस मंदिर के मकड़ी कुंड का रहस्य कालनेमि

    कालिनेमि रचित सरोवर आश्रम को देख़ हनुमान जी की जल पीने की इच्छा हुई। हनुमान जी के सरोवर में प्रवेश करते ही अभिशापित अप्सरा ने मकड़ी के रूप में, उनका पैर पकड़ लिया।
  • <>X

    क्या है इस मंदिर के मकड़ी कुंड का रहस्य कालनेमि

    मंदिर परिसर में आज भी 1889 अंकित (चीना) घंटा लोगों के आकर्षण का केंद्र है। मान्यता है कि यहां माथा टेकने वालों की मनोकामनाएं जरूर पूरी होती हैं।
  • <>X

    क्या है इस मंदिर के मकड़ी कुंड का रहस्य कालनेमि

    कई दिनों की खुदाई के बाद भी जब मूर्ति की गहराई का पता नहीं चला, तो भक्तों ने खुदाई का कार्य बंद कर दिया। इस कारण यहां स्थापित हनुमानजी की प्रतिमा का एक पैर कितनी गहराई में है, इसका आज भी पता नहीं है।
  • <X

    क्या है इस मंदिर के मकड़ी कुंड का रहस्य कालनेमि

    यह वधस्थली आज पर्यटन केंद्र सहित तीर्थस्थल तीन तीर्थों का संगम है। यहां से प्रयाग, काशी और अयोध्या की समान दूरी है।