दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है
  • >X

    दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है

    श्राद्ध के दिनों में प्रतिवर्ष देश-विदेश के लाखों हिन्दू पिंड तर्पण करने तीर्थ राज ‘गया’ पहुंचते हैं।
  • <>X

    दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है

    यह क्षेत्र भगवान विष्णु, शिव तथा ब्रह्मा जी का निवास स्थान है।
  • <>X

    दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है

    पितर आदि के लिए यह क्षेत्र ब्रह्मा लोक प्रदान करने वाला है।
  • <>X

    दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है

    यहां श्राद्ध करने से सौ पीढिय़ों के पितर नर्क से स्वर्ग में चले जाते हैं और स्वर्ग में ही रहने वाले पितर परमपद को प्राप्त होते हैं।
  • <>X

    दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है

    जब तक सूर्य और चांद रहेंगे तब तक यहां ब्राह्मण निवास करेंगे।
  • <>X

    दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है

    श्राद्ध के दिनों में विदेशों में बसे हिन्दू भी यहां आकर अपने पूर्वजों को पिंड तर्पण करते हैं।
  • <X

    दैत्य का धाम: सौ पीढ़ियों के पितरों को भी नर्क से स्वर्ग में ले जाता है

    गया में श्राद्ध करने की परम्परा है, जो आज तक चली आ रही है।