भगवान नृसिंह की प्रतिमा पानी में सीधी नहीं बल्कि तैरती है उल्टी दिशा में
  • >X

    भगवान नृसिंह की प्रतिमा पानी में सीधी नहीं बल्कि तैरती है उल्टी दिशा में

    यह किस्सा है मध्यप्रदेश के देवास जिले में हाटपिपल्या का। कहा जाता है की यहां भगवान नृसिंह जी की साढ़े सात किलो की पाषाण प्रतिमा पानी में तैरती है।
  • <>X

    भगवान नृसिंह की प्रतिमा पानी में सीधी नहीं बल्कि तैरती है उल्टी दिशा में

    यहां हर साल डोलग्यासर पर नृसिंह भगवान की प्रतिमा को नदी में तीन बार तैराया जाता है
  • <>X

    भगवान नृसिंह की प्रतिमा पानी में सीधी नहीं बल्कि तैरती है उल्टी दिशा में

    भमोरी नदी में पंड़ितों के स्नान के बाद नदी की पूजा की जाती है।
  • <>X

    भगवान नृसिंह की प्रतिमा पानी में सीधी नहीं बल्कि तैरती है उल्टी दिशा में

    हाटपिपल्या में हर साल होने वाले इस परंपरा को देखने के लिए लाखों की संख्या में श्रद्धालु भमोरी नदी के घाट पर एकजुट होते हैं।
  • <>X

    भगवान नृसिंह की प्रतिमा पानी में सीधी नहीं बल्कि तैरती है उल्टी दिशा में

    लोगों का दावा है की प्रतिमा पानी में तैरती है और नदी के बहाव की उल्टी दिशा में तैरती है।
  • <X

    भगवान नृसिंह की प्रतिमा पानी में सीधी नहीं बल्कि तैरती है उल्टी दिशा में

    हाटपिपल्या में भमोरी नदी है, जहां भगवान नृसिंह की साढ़े सात किलों की पाषाण प्रतिमा तैरती है।