• >X

    मनाली में बसा है ऋषि वशिष्ठ का ये आकर्षक मंदिर

    मनाली से वशिष्ठ की दूरी मात्र अढ़ाई किलोमीटर है। मुख्य मार्ग पर ब्यास नदी के बाएं तट पर चलते हुए मनाली से 1.6 किलोमीटर की दूरी तय करने पर दाईं ओर (पहाड़ी के साथ-साथ) एक नई सड़क जुड़ती है।
  • <>X

    मनाली में बसा है ऋषि वशिष्ठ का ये आकर्षक मंदिर

    यहां से वशिष्ठ मात्र एक किलोमीटर के अंतर पर स्थित है। पर्यटकों की लोकप्रिय कुल्लू घाटी में मनाली की परिक्रमा में ऋषि वशिष्ठ के नाम से जुड़े इस गांव में भगवान राम और ऋषि वशिष्ठ के दो लघु मंदिर हैं।
  • <>X

    मनाली में बसा है ऋषि वशिष्ठ का ये आकर्षक मंदिर

    ऋषि वशिष्ठ की प्रतिमा (प्रस्तर) एक लघु प्रकोष्ठ में अवस्थित है। इस स्थान की अन्य विशेषताओं में यहां गर्म जल के प्राकृतिक स्रोत हैं। इनसे उठती भाप गंधक की गंध देती है।
  • <>X

    मनाली में बसा है ऋषि वशिष्ठ का ये आकर्षक मंदिर

    वशिष्ठ के इस स्थान पर प्राचीन देवालय और बावड़ी के कुछ ऐसे अवशेष भी ध्यान आकर्षित करते हैं जो मध्य युगीन मंदिर स्थापत्य की किन्हीं विशेषताओं का वरण किए हुए हैं।
  • <X

    मनाली में बसा है ऋषि वशिष्ठ का ये आकर्षक मंदिर

    इसके गर्भ गृह में ‘मनु ऋषि’ और ‘हिडम्बा’ की पाषाण प्रतिमाएं प्रतिष्ठित हैं। गर्भ गृह के चारों ओर प्रदक्षिणा पथ बना है।