ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार
  • >X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    आज यानी मंगलवार, 18 जून से आषाढ़ मास शुरू हो गया है। वर्षा ऋतु का आरंभ भी इसी महीने से होता है।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    ये मास 18 जून से शुरू होकर 17 जुलाई तक चलेगा।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    तो आइये जानते हैं आषाढ़ माह के महत्व व इसके व्रत व त्यौहारों के बारे में-
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    आने वाली 29 जून को आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी पड़ रही है जिसे योगिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    2 जुलाई को अमावस्या आएगी, आषाढ़ मास में पड़ने वाली इस अमावस्या को बहुत मंगलमय माना जाता है।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    3 जुलाई से गुप्त नवरात्रि शुरू होंगी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि साल में 4 नवरात्रि पड़ती हैं।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    जिनमें से दो गुप्त नवरात्रि होते हैं। एक माघ महीने में पड़ते हैं तो दूसरे गुप्त नवरात्रि आषाढ़ मास में पड़ते हैं।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    4 जुलाई को जगन्नाथ रथ यात्रा निकाली जाती है। आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया से भगवान जगन्नाथ की यात्रा निकाली जाती है। इसमें भगवान श्री कृष्ण, माता सुभद्रा व बलराम का पुष्य नक्षत्र में रथोत्सव निकाला जाता है।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    इस त्योहार के बाद 12 जुलाई को देवशयनी एकादशी पड़ेगी और इस दिन के बाद से ही सभी मांगलिक कार्यक्रमों पर विराम लग जाता है।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    दरअसल भगवान विष्णु इस दिन से 4 महीने के लिए योग निद्रा में चले जाते हैं और देवउठनी एकादशी को ही जागते हैं।
  • <>X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी देवशयनी एकादशी कही जाती है। इसके कुछ दिन बाद यानि 16 जुलाई को आषाढ़ पूर्णिमा का पर्व मनाया जाएगा।
  • <X

    ये हैं आषाढ़ माह में आने वाले खास व्रत और त्यौहार

    इस दिन को गुरु पूर्णिमा, व्यास पूर्णिमा आदि के रूप में भी मनाया जाता है।