विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार
  • >X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    अयोध्या: मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 5 अगस्त को भूमि पूजन के साथ ही राम मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा लेकिन विदेशी भक्त राम मंदिर के निर्माण में दान नहीं कर सकेंगे।
  • <>X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सूत्रों के अनुसार, राम मंदिर के निर्माण में विदेशी रामभक्त दान नहीं कर सकेंगे क्योंकि रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अभी विदेशी मुद्रा में दान स्वीकार नहीं किया है।
  • <>X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    ट्रस्ट अभी केवल भारत में रहने वाले रामभक्तों से ही दान स्वरूप सहयोग लेगा। उन्होंने बताया कि विदेशी मुद्रा लेने की एक व्यवस्था है जिसके लिए पंजीकरण करवाना होगा और ट्रस्ट अभी पंजीकरण नहीं करवाएगा।
  • <>X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    राम मंदिर के पक्ष में फैसला आने के बाद 5 अगस्त से मंदिर निर्माण प्रारंभ हो जाएगा जिसके लिए रामभक्त सहयोग में दान देने के लिए लालायित हैं। र दिया है।
  • <>X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    ट्रस्ट के मुताबिक विदेशों में रहने वाले रामभक्त मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए लगातार ट्रस्ट से सम्पर्क कर रहे हैं लेकिन ट्रस्ट ने विदेशी मुद्रा को लेने से इंकार क
  • <>X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    उन्होंने बताया है कि विदेशों से लिए जाने वाले दान अभी नहीं लिए जा सकेंगे क्योंकि विदेशी मुद्रा के लिए भारतवर्ष में एक व्यवस्था है।
  • <>X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    हमें विदेशी मुद्रा अधिनियम के तहत पंजीकृत कराना होगा और उसके बाद ही विदेशी मुद्रा को लिया जा सकेगा।
  • <X

    विदेशी श्रद्धालुओं को मंदिर निर्माण में सहयोग देने के लिए अभी करना होगा इंतजार

    उन्होंने बताया कि हम पहले भारत में रहने वाले रामभक्तों से ही दान स्वीकार करेंगे।