• >X

    Kundli Tv- तो क्या यहां भगवान शंकर ने काटा दक्ष का सिर

    दक्षेश्वर महादेव मंदिर कि कनखल हरिद्वार उत्तराखंड में स्थित है। मान्यता के अनुसार ये वहीं मंदिर है जहां राजा दक्ष ने एक भव्य यज्ञ का आयोजन किया था, जिसमें सभी देवी-देवताओं, ऋषियों और संतों को तो आमंत्रित किया गया था परंतु भगवान शंकर को आमंत्रित नहीं किया गया था।
  • <>X

    Kundli Tv- तो क्या यहां भगवान शंकर ने काटा दक्ष का सिर

    माना जाता है कि दक्ष द्वारा शिव का अपमान सती सह न पाई और यज्ञ की अग्नि में कूद कर अपने प्राण त्याग दिए। माना जाता है जब ये बात महादेव को पता लगी तो उन्होंने गुस्से में दक्ष का सिर काट दिया। देवताओं के अनुरोध पर भगवान शिव ने राजा दक्ष को जीवनदान दिया और उस पर बकरे का सिर लगा दिया।
  • <>X

    Kundli Tv- तो क्या यहां भगवान शंकर ने काटा दक्ष का सिर

    राजा दक्ष को अपनी गलतियों का एहसास हुआ और उन्होंने भगवान शिव से क्षमा मांगी। तब भगवान शिव ने घोषणा की कि वे हर साल सावन के महीने में भगवान शिव कनखल में निवास करेंगे।
  • <>X

    Kundli Tv- तो क्या यहां भगवान शंकर ने काटा दक्ष का सिर

    यही कारण है कि सावन के महीने यहां भक्तों की ज्यादा भीड़ उमड़ती है। दुनिया के सारे मंदिरों में शिव जी की शिंवलिंग के रूप में पूजा की जाती है।
  • <>X

    Kundli Tv- तो क्या यहां भगवान शंकर ने काटा दक्ष का सिर

    यही एक एेसा मंदिर है यहां भगवान शंकर के साथ-साथ राजा दक्ष की धड़ के रूप में पूजा होती है। सावन के महीने जो कोई भी यहां जलाभिषेक करता है उनकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कहा जाता है यहां भगवान साक्षात रूप में विराजमान हैं।
  • <>X

    Kundli Tv- तो क्या यहां भगवान शंकर ने काटा दक्ष का सिर

    सावन के महीने जो कोई भी यहां जलाभिषेक करता है उनकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कहा जाता है यहां भगवान साक्षात रूप में विराजमान हैं।
  • <X

    Kundli Tv- तो क्या यहां भगवान शंकर ने काटा दक्ष का सिर

    परंतु इस मंदिर के निर्माण पुराणिक काल में हुआ था। महादेव को ये मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है।