Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं
  • >X

    Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं

    चातुर्मास मास की ही तरह पुरुषोत्तम मास को भी बहुत महत्व प्रदान है। इसमें किया गया दान-पुण्य भी अधिक फलदायी होता है। बता दें ज्यादातर लोग पुरुषोत्तम मास को अधिक मास के नाम से जानते हैं। ज्योतिषी बताते हैं लगभग 160 वर्ष के बाद अश्विन मासे में अधिक मास लगा है।
  • <>X

    Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं

    हालांकि इस महीने की गिनती मुख्य महीनों में नहीं होती। प्रचलित कथाओं के अनुसार जब सभी महीनों का बंटवारा हुआ था तो अधिक मास दुखी था क्योंकि उसे लगता था कि सब उसे महत्वता नहीं देंगे और अपिवत्र मानेंगे।
  • <>X

    Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं

    अधिक मास की इस परेशानी को दूर करने के लिए भगवान विष्णु ने उसे अपना प्रिय मास घोषित कर दिया और उसे पुरुषोत्तम मास का नाम दे दिया और कहा जो भी जातक इस दौरान मेरा ध्यान करेगा मैं उस पर असीम कृपा करूंगा और मैं ही इस मास की स्वामी कहलाऊंगा।
  • <>X

    Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं

    साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि क्योंकि इस मास की गिनती 12 मास में नही होगी इसलिए किसी भी तरह मांगलिक कार्य जैसे विवाह आदि करने शुभ नहीं होंगे परंतु इसके अलावा कुछ ऐसे भी कार्य होंगे जिन्हें इस दौरान करना होगा शुभ होगा बल्कि इसका परिणाम भी अत्यंत लाभप्रद होगा।
  • <>X

    Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं

    भगवान विष्णु के प्रिय इस मास में देवों के देव महादेव के महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना भी शुभ होता है। ज्योतिष शास्त्री बताते हैं कि अधिक मास में किसी शिक्षित पुरोहित से संकल्प करवाकर महामृत्‍युंजय मंत्र का जप करवाना चाहिए।
  • <>X

    Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं

    पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मास में करवाए जाने वाले या यज्ञ आदि का दोगुना फल प्राप्त होता है।
  • <X

    Adhik Mass 2020: ये काम करने वाले की होती है हर इच्छा पूरी, आप भी ज़रूर आजमाएं

    चूंकि अधिकमास में श्री हरि भगवान विष्णु की पूजा अधिक फलदायी होती है, इसलिए इस मास में सत्यनारायण की पूजा करवाई जा सकती है।