बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी
  • >X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    भारत में स्थापित हर मंदिर के पीछे कोई धार्मिक मान्यता जुड़ी है। इसी में कश्मीर में एक ऐसा मंदिर है, जिस कुंड का पानी कोई मुसीबत आने से पहले अपना रंग बदल देता है।
  • <>X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    इसतरह लोग पहले ही आने वाली परेशानी को लेकर सचेत हो जाते हैं। देवी मां के इस मंदिर का नाम 'खीर भवानी' है।
  • <>X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    देवी मां का यह श्रीनगर से करीब 27 किलोमीटर दूरी पर तुल्ला मुल्ला गांव में स्थापित है।
  • <>X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी खीर भावनी पहले लंका में रहती है। साथ ही लंका पति रावण माता का अटूट भक्त था।
  • <>X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    मगर रावण द्वारा सीता माता का हरण करने में देवी मां ने उससे नाराज हो गई थी।
  • <>X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    ऐसे में उन्होंने हनुमान जी को उनकी मूर्ति लंका की हटा कर कहीं और स्‍थापित करने को कहा। फिर हनुमान जी ने उनकी मूर्ति कश्‍मीर के स्‍थापित कर दी।
  • <>X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    देवी मां को प्रसन्न करने व उनकी कृपा पाने के लिए लोग उन्हें खीर का भोग लगाते हैं।
  • <X

    बुरे समय का इशारा देती हैं खीर भवानी, संकट में बदल जाता है कुंड का पानी

    साथ ही लोगों को भी खीर का प्रसाद दिया जाता है।