KUMBH 2019: इंजीनियर से लेकर बोर्ड परीक्षा के टॉपर तक बने नागा साधु
  • >X

    KUMBH 2019: इंजीनियर से लेकर बोर्ड परीक्षा के टॉपर तक बने नागा साधु

    सांसारिक सुख और मोह को त्यागने की उम्र लगातार घटती जा रही है। सनातन परम्परा में मनुष्य के जीवन को 4 आश्रमों ब्रह्मचर्य, गृहस्थ, वाणप्रस्थ और संन्यास में बांटा गया है, लेकिन वर्तमान समय में कुछ युवा बेहद कम उम्र में ही नागा साधु बनकर सीधे संन्यास आश्रम में जाने का फैसला कर रहे हैं।
  • <>X

    KUMBH 2019: इंजीनियर से लेकर बोर्ड परीक्षा के टॉपर तक बने नागा साधु

    इनमें इंजीनियर से लेकर एमबीए करने वाले भी शामिल हैं और 12वीं की परीक्षा में टॉप करने वाले भी। प्रयागराज कुंभ में सोमवार को मौनी अमावस्या पर ऐसे ही 10 हजार पुरुष-महिलाओं को नागा साधु बनने की दीक्षा दी गई।
  • <>X

    KUMBH 2019: इंजीनियर से लेकर बोर्ड परीक्षा के टॉपर तक बने नागा साधु

    गुजरात में कच्छ के रहने वाले 27 वर्षीय रजत कुमार राय अब नित्यानंद गिरि के नाम से जाने जाएंगे। मरीन इंजीनियरिंग में डिप्लोमा करने वाले रजत कुमार के अनुसार कुछ साल पहले उन्होंने सपने में खुद को मरा हुआ देखा। मरने के बाद उन्हें भगवान का दृष्टांत हुआ और यहीं से उन्होंने नागा साधु बनने का फैसला कर लिया।
  • <>X

    KUMBH 2019: इंजीनियर से लेकर बोर्ड परीक्षा के टॉपर तक बने नागा साधु

    मध्य प्रदेश में उज्जैन से 12वीं परीक्षा में टॉप करने वाले घनश्याम गिरि को 16 साल की उम्र में जीवन का उद्देश्य समझ में आया और सांसारिक जीवन से उनका मोहभंग हो गया। वह अपने गुरु महंत जयराम गिरि के आश्रम में गए वहां से खुद के लिए संन्यास का मार्ग चुन लिया।
  • <>X

    KUMBH 2019: इंजीनियर से लेकर बोर्ड परीक्षा के टॉपर तक बने नागा साधु

    कुछ ऐसी ही कहानी यूक्रेन से एमबीए कर चुके शंभु गिरि की भी है। जूना अखाड़े के मुख्य संयोजक महंत हरि गिरि के अनुसार कोई भी व्यक्ति जो जाति, धर्म या रंग से अलग होने के बावजूद वैराग्य की तीव्र इच्छा रखता है, वह नागा साधु बन सकता है।
  • <X

    KUMBH 2019: इंजीनियर से लेकर बोर्ड परीक्षा के टॉपर तक बने नागा साधु

    यहां केवल समर्पण का महत्व है। अखाड़े द्वारा स्वीकार करने के बाद आगे का मार्ग कठिन होता है। पूर्व परीक्षण के बाद सफलता पाने वालों को ही नागा साधु के रूप में दीक्षा दी जाती है