भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल
  • >X

    भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल

    देश के बहुत से हिस्सों में भाद्रपद अमावस्या मनाई जाती है। मगर राजस्थान के झुंझुनू में रानी सती दादी मंदिर में भादो मास की अमावस्या को उत्सव मनाया जाता है।
  • <>X

    भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल

    इस दौरान यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल होते हैं। इस साल भी 30 अगस्त को यह उत्सव मनाया जा रहा है। जिसकी जोरो-शोरों से तैयारियां भी की गई।
  • <>X

    भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल

    बता दें राणी सती मंदिर में हर साल मनाया जाने वाला भादो उत्सव देशभर में प्रसिद्ध है। इस बार शुक्रवार को होने वाले मंगलपाठ के लिए प्रसिद्ध गायक बुलाए गए हैं। श्री राम मंदिर और राणी सती दादी मंदिर समिति के अनुसार मंगलपाठ शुक्रवार को दोपहर 3 बजे शुरू होना था।
  • <>X

    भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल

    बताया जाता है भादो अमावस्या पर श्री राम मंदिर और राणी सती दादी मंदिर द्वारा भादी मावस उत्सव बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है।
  • <>X

    भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल

    राणी सती दादी मंदिर समिति ने बताया की मंदिर में पिछले 9 सालों से गांधी गंज राणी सती दादी मंदिर में मित्तल कलानोरिया परिवार द्वारा भव्य मेले का आयोजन किया जाता है।
  • <>X

    भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल

    बताया जाता है रानी सती को समर्पित झुंझुनू का यह मंदिर करीब 400 साल पुराना है, जिसे सम्मान, ममता और स्त्री शक्ति का प्रतीक माना जाता है। राजस्थान के मारवाड़ी लोगों का मानना है कि रानी सतीजी, मां दुर्गा का अवतार थीं।
  • <X

    भाद्रपद अमावस्या: रानी सती दादी मंदिर में होता है महोत्सव, लाखों लोग होते हैं शामिल

    बताया जाता है की, उन्होंने अपने पति के हत्यारे को मार कर बदला लिया और फिर अपनी सती होने की इच्छा पूरी की। बता दें यहां मंदिर परिसर में रानी सती के अलावा कई मंदिर हैं, जो शिव जी, गणेश जी, माता सीता और राम जी के परम भक्त हनुमान को समर्पित हैं।